6 Feb 2015

#90 Sapne

सपने


आखों में लिए सपने,
कदम बढ़ाए अपने
न जाने मंज़िल कहाँ,
उसे ढूंढू यहाँ वहाँ |

क्या कभी साकार होते हैं सपने??
क्यों नही खुलेंगे द्वार अपने??
मन में उठे हर तरह के प्रश्न
भर देते हैं  नए उमंग |

सपने करते देते हैं वैचैन,
सोचते ही बीत जाता है रैन
तितली की तरह उड़ जाते,
अलग सा एहसास जगाते |

सपनो के नहीं है कोई प्रकार,
अद्भूत, अनोखे, किन्तू निराकार
उन्हे मैं समेत्टी, कभी हूँ बिखराती,
कभी उन संग झूम उठती |

सपनो की न कोई है सीमा,
ये मेरे कल के, आईना
मुझे है खुद पर विश्वास ,
पूरा करूँ सबकी आस |

सपनो से नहीं है कोई वंचित,
परिश्रम से होते सारे रास्ते ठीक
सपने दिखाते हैं भविष्य उज्वल,
उठो, बढ़ो और हो जाओ सफल |

P.S- My first hindi poem in this blog, hope u all like it..:)

5.2.2015

Sweta Sarangi


8 comments:

  1. हमारे सपने ही हमें जीवन में आगे बढ़ाते है। अच्छी कविता परंतु कुछ गलतियां हैं जो आप अगर दुबारा ध्यान से पड़ेंगी तो खुद ही ठीक करलेंगी। धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैने संशोधन कर लिया है | मेरी कविता पढ़ने के लिए धन्यवाद |

      Delete
  2. Har sapno ko apni saason mein rakho
    Har Manzil ko apni bahon mein rakho.
    Har jeet ho apki..
    bas apne dhyeya ko apni nigahon mein rakhon

    ReplyDelete
  3. Great goods from you, man. I have understand your stuff previous to and you are just extremely fantastic. I actually like what you’ve acquired here, certainly like what you are stating and the way in which you say it. You make it enjoyable and you still take care of to keep it smart. I cant wait to read far more from you. This is really a terrific website.




    No Addiction | Aire Bra | Sandhi Sudha | Fair Look | Body Buildo Powder |
    Slim Pro | Step Up Height | Hair Building Fiber | Sandhi Sudha Plus

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks a lot for your encouraging words!! It means a lot.
      Welcome to my blog and keep reading!!

      Delete